• 520 मेगावाट ओंकारेश्वर पावर स्टेशन ट्रासफार्मर यार्ड

  • 520 मेगावाट ओंकारेश्वर पावर स्टेशन – 220 केवी स्विचयार्ड

  • 1000 मेगावाट इंदिरासागर पावर स्टेशन विद्युत गृह जनेरेटर फ्लोर

  • 1000 मेगावाट इंदिरासागर पावर स्टेशन स्विचयार्ड

Detailed News

ओंकारेश्वर पावर स्टेशन में कवि सम्मेलन का आयोजन - (16-Mar-24)

ओंकारेष्वर पावर स्टेषन, एनएचडीसी लिमिटेड द्वारा राजभाषा हिंदी के प्रचार-प्रसार व कार्यालयीन वातावरण को राजभाषामय बनाने के उद्देष्य से 16 मार्च, 2024 शनिवार को प्रषासनिक भवन के प्रेक्षा गृह में भव्य हिंदी कवि सम्मेलन का भव्य आयोजन किया गया। कवि सम्मेलन का शुभारंभ मुख्य अतिथि माननीय प्रबंध निदेषक, एनएचडीसी लिमिटेड श्री विजय कुमार सिन्हा एवं अन्य आमंत्रित अतिथियों द्वारा भारतीय परम्परा के अनुसार दीप प्रज्जवलित एवं मॉ सरस्वती के छायाचित्र पर माल्यार्पण करके किया। कवि सम्मेलन के अवसर पर मुख्य अतिथि माननीय प्रबंध निदेषक, एनएचडीसी लिमिटेड श्री विजय कुमार सिन्हा एवं श्री अषोक कुमार, मुख्य महाप्रबंधक (मा.स.), निगम मुख्यालय के पावर स्टेषन पधारने पर श्री धीरेन्द्र कुमार द्विवेदी, परियोजना प्रमुख द्वारा फ्लावर पॉट, शॉल एवं श्रीफल से पावर स्टेषन में स्वागत किया गया। कवि सम्मेलन के आयोजन के दौरान एनएचडीसी निगम मुख्यालय लेडिज क्लब अध्यक्षा, श्रीमती वंदना सिन्हा एवं अंषु कुमार का श्रीमती अंजना द्विवेदी, अध्यक्षा लेडीज क्लब ओ.एस.पी द्वारा फ्लावर पॉट, शॉल एवं श्रीफल प्रदान कर अभिनंदन किया इस दौरान परियोजना की अन्य महिलाएं भी उपस्थित रही। कार्यक्रम के दौरान श्री विजय कुमार सिन्हा, प्रबंध निदेषक महोदय द्वारा कार्मिकों को संबोधित करते हुए कहा कि भाषा न सिर्फ विचारों के आदान.प्रदान का माध्यम है वरन् इसमें हमारी भावनाओं को भी भलिभांति व्यक्त करने की शक्ति है। भाषा के माध्यम से हम अपने विचारों के साथ.साथ भावनाओं को भी व्यक्त कर सकते हैं। हिंदी भाषा भावनाओं को व्यक्त करने का सरलतम माध्यम है, जो हिंदी भाषा को उचित महत्व और पहचान देता है। हमारा एनएचडीसी परिवार राष्ट्र की सेवा में सदैव तत्पर है। हिंदी सभी भाषाओं में शिरोमणि है और हम सभी के हृदय में मॉं की ममता तुल्य विराजमान है इसलिए हम हिंदी की बैठकों, कार्यशालाओं, प्रतियोगिताओं, राजभाषा की अन्य गतिविधियों के अतिरिक्त हिंदी कवि सम्मेलन का आयोजन कई वर्षों से करते आ रहे हैं जिससे परोक्ष रूप से हम अपनी मातृभूमि और मातृभाषा से हृदय से जुड़े रहते हैं। इसके अतिरिक्त भी राजभाषा के प्रचार एवं प्रसार से संबंधित अनेक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। आज का यह कवि सम्मेलन भी उसकी श्रृंखला की कड़ी है और यह राजभाषा विशेष कार्यों के क्रम में महत्वपूर्ण पायदान है। इससे निश्चित ही हमारे राजभाषा संबधी कार्यों में वृद्धि होगी। एनएचडीसी अपने कर्तव्यों के प्रति जागरूक है एवं देश सेवा हेतु विद्युत उत्पादन में संलग्न है, इसी निष्ठा व लगन की कार्यशैली के साथ ओंकारेश्वर जलाशय में 88 मेगावाट के फ्लोटिंग सोलर प्रोजैक्ट को स्थापित करने का कार्य प्रगति पर है। हमारी सांस्कृतिक मूल्य की धरोहर सांची में 8 मेगावाट सौर ऊर्जा प्रोजैक्ट स्थापित किया जा चुका है। मुख्य अतिथि के उद्बोधन के उपरान्त हिंदी कवि सम्मेलन की शुरूआत हुई जिसमें कवि श्री पंडित अशोक नागर, श्री कमलेश शर्मा, श्री विनोद पाल एवं श्री धर्मेन्द्र सोलंकी द्वारा अपनी शानदार काव्य प्रस्तुति के रसों से प्रेक्षागृह में उपस्थित श्रेताओं को सरोबार कर दिया। इस अवसर पर आमंत्रित अतिथि श्री ए.के.सिंह, परियोजना प्रमुख- श्री सुषील कुमार वर्मा, महाप्रबंधक (ओएण्डएम), श्री गोपाल खंडेलवाल, महाप्रबंधक (सिविल), केऔसुब बल सदस्य एवं बडी संख्या में अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे। आभार प्रर्दषन के दौरान श्री धीरेन्द्र कुमार द्विवेदी, परियोजना प्रमुख ने कहा कि कवि सम्मेलन जैसे कार्यक्रम हमारी संस्कृति को संभाले हुए है। आज के इस दौर में जहॉं युवा पीढ़ी को पाश्चात्य संस्कृति और उस पर बजने वाला संगीत पसंद है, जिनके गानों के अर्थ शून्य प्रायः होते हैं वहॉं इस प्रकार के राजभाषा के प्रचार प्रसार हेतु हिंदी कवि सम्मेलन का आयोजन होना और इतनी संख्या में लोगों की उपस्थिति व उत्साह यह दर्शाता है कि हमारी भाषाए हमारी संस्कृति कितनी महान है। मैं समस्त कविगण, अतिथिगण और उपस्थित श्रोतागण का हृदयतल से आभार व्यक्त करता हूँ। कार्यक्रम का संचालन श्रीमती चंचला सिन्हा, उप महाप्रबंधक (मानव संसाधन) एवं मंच संचालन श्री धर्मेन्द्र सोलंकी द्वारा किया गया।